[t4b-ticker]

हे माँ महामाया ,हमें बचा लो चोरों से

अम्बिकापुर

सरगुजा जिले की पुलिस गहरी नींद में सोई हुई है। हम ऐसा इसलिए बोल रहे हैं क्योंकि बीते कुछ दिनों से शहर में सिलसिलेवार ढंग से चोरी की वारदात हो रही है। जबकि चोर गिरोह को पुलिस पकड़ने में नाकाम साबित हो रही है। शहर में लचर पुलिसिंग का फायदा उठाकर अज्ञात चोरों ने मुख्य डाकघर में चोरी की वारदात को अंजाम दिया है। जिसकी शिकायत प्रबंधन ने कोतवाली थाने में दर्ज कराई है।

अंबिकापुर शहर में चोरी की घटनाएं लगातार बढ़ रही है। पिछले कुछ दिनों से चोरों ने बड़ी चोरी की घटना को अंजाम दे रहे हैं। 22 अगस्त की रात चोरों ने आधा दर्जन से अधिक स्थानों पर घटना को अंजाम दिया था। इसके दूसरे दिन शहर के बीचोबीच स्थित मुख्य डाकघर में चोरों ने सेंधमारी कर बड़ी चोरी की घटना को अंजाम देने वाले थे। हालांकि चोरों ने पोस्ट ऑफिस के मुख्य खजाने तक नहीं पहुंच सके। इस दौरान चोरों ने पोस्ट ऑफिस की जगह आधा दर्जन काउंटर से 22 हजार रुपए चिल्हर व लगभग 3 हजार रुपए चोरी कर ले गए। बड़ी बात यह है कि घटना के दौरान पोस्ट ऑफिस का दो गार्ड व 4 अधिकारी भी वही रूके हुए थे। पर घटना की भनक इन्हें तनिक भी न लगी। वही अपनी शिनाख्त छिपाने के लिए चोरों ने सीसीटीवी का हार्डवेयर भी अपने साथ ले गए। घटना की जानकारी मंगलवार की सुबह डाक विभाग को लगी तो उन्होंने पुलिस को इस मामले में जानकारी दी। सूचना पर कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंचकर मामले की जांच कर रही है। इस दौरान पुलिस ने आरोपियों तक पहुंचने के लिए फॉरेंसिक एक्सपर्ट व डॉग एक्सवाइड का भी सहारा लिया है।

जानकारी के अनुसार शहर में लगातार चोरी की घटनाएं हो रही है। पुलिस इसे रोक लगाने में नाकाम साबित हो रही है। 22 अगस्त की रात शहर के आधा दर्जन से ज्यादा सूने मकान से चोरों ने लाखों के जेवरात व रुपए पर कर दिए थे। इन सभी मामलों को पुलिस सुलझा रही  थी कि इसके दूसरे दिन कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत शहर के बीचोबीच मुख्य डाकघर में चोरों ने खिड़की का तीन राड तोड़कर पोस्ट ऑफिस के अंदर घुस कर चोरी की घटना को अंजाम दे दिया। चोरों ने पहले पोस्ट ऑफिस के आधा दर्जन कैश काउंटर से 22 हजार रूपए चिल्हर व 3 हजार रुपए कटे फटे नोट अपने साथ ले गए। बताया जा रहा है कि यह पैसा शाम को क्लोजिंग के बाद काउंटर में शेष बचे थे। चोरों ने सीढ़ी से चढ़कर डाकपाल और खजाना कक्ष के कमरे का ताला तोड़कर अंदर घुसे पर चोर मुख्य खजाना तक नहीं पहुंच सके। वही चोरी की वारदात को अंजाम देने के बाद चोर सीसीटीवी का हार्डवेयर भी अपने साथ ले गए। घटना की जानकारी मंगलवार की सुबह तब लगी जब दूसरा गार्ड डाकघर

पहुंचा और अंदर जाकर देखा तो खिड़की का राड़ टूटा हुआ था। गार्ड ने डाकपाल राजनी तिग्गा को इसकी जानकारी दी। डाकपाल ने मामले की जानकारी कोतवाली पुलिस को दी। पुलिस मौके पर पहुंचकर मामले की जांच की और आरोपियों तक जल्द से जल्द पहुंचने के लिए फॉरेंसिक एक्सपर्ट व डॉग एक्सवाइड का सहारा ले रही है। इस  घटना में सबसे मजे की बात यह है कि सोमवार की रात चोरों ने मुख्य डाकघर का खिड़की तोड़कर चोरी की घटना को अंजाम दे रहे थे उस दौरान मुख्य डाकघर के दो गार्ड नीचे में सोए हुए थे। वही रायगढ़ से आई जांच टीम भी ऊपर वाले कमरे में सोए हुए थी। जांच टीम में अधीक्षक, उप अधीक्षक, डाक जीवन बीमा के मैनेजर व फील्ड ऑफिसर भी थे। पर इन लोगों को घटना की जानकारी तनिक भी न लगी। सुरक्षा के लिए लगाए गए गार्ड भी बेपरवाह सोते रहे। वही

मुख्य डाकघर के अधिकारियों के अनुसार चोर ग्राउंड फ्लोर में कैश काउंटर से रुपए चोरी करने के बाद फस्ट फ्लोर तक पहुंच गए थे। वहां डाकपाल कक्ष और खजाना कक्ष भी था। पर चोर आरेंचेस तक नहीं पहुंच पाए। क्योंकि आरेंचेस को न तो तोड़ने और न ही खोलने का प्रयास किया गया है चोर आरेंचेस को खोल देते तो 14 से 15 लाख का नुकसान हो सकता था। गौरतलब है कि शहर में पेट्रोलिंग के लिए एसपी द्वारा वाहनों की बढ़ोतरी तक कर दी गई है। पर इसका फायदा नहीं दिख रहा है। लोगों का कहना है कि रात्रि गश्त केवल नाम मात्र का होता है। अगर पुलिस सजग रहती तो शहर में इस तरह से चोरी की घटनाएं लगातार देखने को नहीं मिलता। पिछले कुछ दिनों से चोरी की घटना शहर में लगातार बढ़ी हुई है। इधर पुलिस चोर गिरोह की सक्रियता के बीच हाथ पर हाथ धरे बैठी हुई है।