[t4b-ticker]

छत्तीसगढ़: रायपुर समेत तीन बड़े जिलों में लॉकडाउन की तैयारी… कल जारी हो सकता है 72 घंटे का अलर्ट.. कंटेमेंट जोन बनाकर बंद करने पर हो रहा विचार..उधर एक और जिला हुआ लॉक डाउन..कलेक्टर ने जारी किया आदेश…

रायपुर

लगातार बढते कोरोना संक्रमण के मामले को देखते हुए प्रदेश के तीन ज़िलों में कल देर शाम या कि रविवार सुबह 72 घंटो का अलर्ट जारी किया जा सकता है। यह अलर्ट नागरिकों को यह संकेत देगा 72 घंटे के बाद गंभीर अनुशासनात्मक कार्यवाही प्रारंभ होगी। इस अनुशासनात्मक कार्यवाही में तीन संभाग मुख्यालय समेत आसपास के नगरीय निकाय ईलाके कंटेनमेंट ज़ोन में तब्दील किए जाएँगे।और कंटेनमेंट ज़ोन में इस बार बेहद ज़्यादा सख़्ती होगी।
सूत्रों के अनुसार प्रदेश के जिन तीन संभागीय मुख्यालयों में यह कार्यवाही संभावित या कि विचाराधीन है, उनमें रायपुर बिलासपुर और सरगुजा शामिल हैं।
सूत्रों के अनुसार संभाग मुख्यालय राजधानी रायपुर बिलासपुर और अंबिकापुर में कोरोना के लगातार बढ़ते संक्रमित मरीज़ों की संख्या को देखते हुए संक्रमण की चेन को तोड़ने की कोशिश के तहत तीनों ही शहरों को कंटेनमेंट ज़ोन घोषित किया जाएगा।
उच्च पदस्थ सूत्र के अनुसार इस बार कंटेनमेट ज़ोन में छूट को लेकर अब तक की लागू व्यवस्था बेहद कम होगी और यह कड़ाई ऐसी होगी कि इसे अब तक की सबसे कड़ी सख़्ती कहा जा सकता है।
सख़्ती की यह अवधि पाँच दिन सात दिन अथवा 11 दिन की हो सकती हैं।
खबरें हैं कि आज रात और कल दोपहर तक इस कार्ययोजना और इसके क्रियान्वयन को लेकर गंभीर मंत्रणा होनी है, जिसके बाद पहले चरण में 72 घंटे का पूर्व अलर्ट जारी होगा।संकेत यह भी है कि कल तक कई ज़िला मुख्यालय भी इस राह की ओर बढ सकते हैं

बालोद भी लॉक डाउन

छत्तीसगढ़ में कोरोना की बढ़ती तेज रफ्तार ने लोगों को खौफ से भर दिया है। ना तो प्रदेश में मरीजों की रफ्तार कम हो रही है और ना ही मौत की संख्या कम हो रही है। इसी कड़ी में प्रदेश में एक के बाद एक कई शहर लॉकडाउन हो रहे हैं। दुर्ग के लॉकडाउन के फैसले के बाद एक और बालोद शहर अब लॉकडाउन हो रहा है। बालोद कलेक्टर ने इस बाबत आदेश जारी कर दिया है। बालोद में 22 सितंबर से लॉकडाउन लगने जा रहा है। एक सप्ताह यानि 30 सितंबर तक बालोद जिले का शहरी इलाका लॉकडाउन रहेगा। इससे पहले राजनांदगांव, बेमेतरा, मुंगेली, दुर्ग में लॉकडाउन का आदेश जिला प्रशासन की तरफ जारी हो चुका है