[t4b-ticker]

आईजी का फॉलो वाहन एडिशनल एसपी के कब्जे में,नीलाम किये जाने वाले वाहन को साजिश के तहत,हथियाया,बनवाने में भी शासन के लांखों रुपये फूंक दिए

बिलासपुर

शासन से मिले वाहन को सरगुजा के एडिशनल एसपी ओम चंदेल द्वारा बोलेरो के कंडम होने के पश्चात उसकी नीलामी न करवाकर अवैध तरीके से अपने पास रखकर चलाया जा रहा है,हद तो ये है कि बोलरो को बनवाने में शासन का लाखों रुपये खर्च किया गया है।
उक्ताशय का आरोप लगाते हुए भाजपा पार्षद आलोक दुबे ने डीजीपी को पत्र लिखकर बताया है कि शासन से आईजी के फॉलो केरूप में वाहन का उपयोग करने बोलेरो वाहन क्रमांक सी जी 3/3970 दिया गया था।
वाहन के कंडम होने के बाद उसकी नीलामी के निर्देश दिए गए थे।बोलोरो 7 वर्षों तक आइजी के फॉलो में चलती रही थी।कंडम हो चुके बोलेरो को एडिशनल एसपी ओम चंदेल ने नीलामी न करवाकर एमटीओ युदिश तिग्गा सउनि तथा आरक्षक में भगत पर दबाव बनाकर अपने कब्जे में ले लिया गया।
इसके बाद शासन के लाखों रुपये खर्चकर उसका कायकल्प कर दिया गया फिर वाहन को उनके गृहनगर जांजगीर,चापा जिले के पामगढ़ भेज दिया गया,जहां वाहन का नम्बर प्लेट बदलकर एडिशनल एसपी के पिता उसे चला रहे है,जब श्री चंदेल को उनके कारनामे के लीक होने की भनक लगी तो उसकी फर्जी नीलामी की तैयारी में जुट गए ताकि किसी के नामे औने पौने में वाहन को नीलाम कराकर वाहन फिर हथिया लिया जाए।

पार्षद आलोक दुबे ने यह भी बताया है कि इस बात की जानकारी एसपी श्री कोशिमा व पूर्व प्रभारी आईजी श्री डांगी से भी की गई परंतु उन्होंने इसे मानने से ही इनकार कर दिया। पार्षद ने कहा है कि शासकीय वाहन को बलात अपने कब्जे में रखना एक साजिश है,इसके अलावा शासकिय राशि का भी दुरुपयोग किया गया है ,अतःइस मामले में एडिशनल एसपी पर सख्त कारवाई की जाए।