Breaking News

VIDEO: “पुलिस हमें कुछ नहीं करेगी, पैसा लेगी और छोड़ देगी” सटोरियों के वायरल वीडियो से हुआ खुलासा…. कौन है ये पुलिसकर्मी जिनकी सटोरियों से है सेटिंग

रायपुर
राजधानी पुलिस की लगातार जुआरियों और सटोरियों पर कार्रवाई जारी है। इस बीच एनपीजी के पास एक वीडियों आया है। वीडियों मंत्रालय के राखी थाना क्षेत्र का बताया जा रहा है। मंत्रालय और पीएचक्यू से महज कुछ दूरी पर ही धड़ल्ले सें लाखों का सट्टा खिलाया जा रहा है और ये पूरा खेल कुछ पुलिसकर्मियों की देख रेख में चल रहा है, ये हम नहीं कह रहे है ये तो खुद वहां मौजूद सटोरी कह रहा है। वीडियों में एक सटोरी कहता हुआ दिखाई दे रहा है कि पुलिस उन लोगों को पकड़ती तो है, फिर बाद में पैसे लेकर उन्हें छोड़ देती है। वहीं जब उन्हें थाने लेजाया जाता है, उस दौरान जब्त नगदी की आधे से ज्यादा रकम कार्रवाई करने आये पुलिसकर्मी ही गबन कर लेते है। थाने से कार्रवाई करने आये पुलिसकर्मी उनके पास से ज्यादा पैसा जब्त करते हैं और रिपोर्ट में कम दर्शाते है। कुछ तो थाने में ही पैसा लेकर जमानत के तौर पर उन्हें छोड़ देते है।
इसी तरह से राखी और सेज बाहर के कुछ इलाकों में पुलिस की मिली भगत से सट्टों का अवैध व्यापार पनप रहा है। जिन इलाकों में सट्टा खिलाने की सूचना आयी है उनमे गनोउद, झांझ, खंडवा, निमोरा है ये सभी इलाके राखी थाना क्षेत्र में आते है। वहीं धनेली एयरपोर्ट रोड और सेजबहार, कमल विहार के कई इलाकों में भी कुछ पुलिसकर्मियों के सपोर्ट में धड़ल्ले से सट्टे का व्यापार चमक रहा है।

 

बता दें जिन इलाकों में ये सट्टा खिलाया जा रहा है, वहां से पुलिस मुख्यालय की दूरी महज 100 से 200 मीटर ही है। ऐसे में पुलिस की कार्रवाई पर संदेह होना लाजमी है। जहाँ एक तरफ राजधानी सहित अन्य जिलों में इस तरह के अपराध को अंकुश लगाने के लिये डीजीपी ने पहले ही सख्त लहजे में पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों को चेताया  भी था। इसके बाद भी थानों में पदस्थ कुछ भ्रष्ट पुलिसकर्मियों के द्वारा डीजीपी के आदेशों की अहवेलना लगातार की जा रही है। अब देखना ये होगा कि इस वीडियों के सामने आने के बाद दोषी पुलिसकर्मियों पर किस तरह की कार्रवाई होती है।