Breaking News

रुपयों के लिए कारोबारी ने पड़ोसी से कांट्रैक्‍ट साइन कर पत्नी को कहा उससे संबंध बनाने के लिए, जब पड़ोसी से बेटी हुई तो 11 लाख वसूले

इंदौर

रुपये के लिए एक कारोबारी ने किस-किस प्रकार के अनैतिक कृत्‍य किए, उसका खुलासा पत्‍नी के उसके खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराने से हुआ है। इंदौर शहर के पॉश इलाके अनूप नगर में संभ्रांत कारोबारी ने पहले पत्नी को मायके से रुपये लाने के लिए मजबूर किया। उसकी जरूरतें पूरी नहीं हुई तो पड़ोस में रहने वाले एक अन्य संभ्रांत कारोबारी के पास अपनी पत्नी को भेज दिया।
इसके लिए पति ने स्टांप पर अनुबंध किया और सहमति दी कि उसकी पत्नी पड़ोसी कारोबारी से संबंध बनाएगी
विवाहेतर संबंधों के दौरान महिला गर्भवती हो गई और उसने बेटी को जन्म दिया। इस पर पति ने फिर लिखा-पढ़ी की और पड़ोसी बिजनेसमैन से 11 लाख रुपये ले लिए। बाद में लेनदेन को लेकर विवाद होने लगा तो परेशान पत्नी ने पति और स्वजन के खिलाफ थाने में दहेज प्रताड़ना की शिकायत दर्ज करवा दी। मामले की जांच शुरू होते ही पति की पोल खुल गई।
शादी के दो साल बाद ही पत्‍नी से रुपयों की मांग की
अनूप नगर के रहने वाले एक उद्योगपति ने जुलाई 2005 में अपने बेटे का राजस्थान की युवती से विवाह किया था। शादी के दो साल बाद ही पति ने पत्नी से रुपयों की मांग शुरू कर दी। रुपये लेने के बहाने पत्नी को पड़ोसी कारोबारी के पास भेजना शुरू किया। रुपयों का लेनदेन करते-करते कुछ समय बाद महिला और पड़ोसी के संबंध बन गए और महिला ने एक बेटी को जन्म दिया। पति ने पड़ोसी से रुपये वसूलने का षड्यंत्र रचा और फंसाने की धमकी दी।
1000 रुपये के स्टांप पर करार, तीन घंटे ही मिलने की अनुमति
दो साल पहले दोनों ने 1000 रुपये के स्टांप (शपथपत्र) पर एक करार किया जिसमें पड़ोसी से जन्मी बच्ची को अपनाने और पालने–पोसने के बदले 11 लाख रुपये की लिखा-पढ़ी हुई। पति ने यह भी कहा कि पड़ोसी से सिर्फ 3 घंटे मिलेगी। घर आने के बाद न तो उसका जिक्र करेगी, न वाट्सएप और फोन पर चर्चा होगी। इस वाकये के बाद भी पति का रुपये मांगना बंद नहीं हुआ और पत्नी के बैंक खातों और एफडी के सारे रुपये निकाल लिए। परेशान पत्नी आठ दिन पहले एमआइजी थाने पहुंची। सास, ससुर, देवर के खिलाफ दहेज प्रताड़ना का केस दर्ज करवा दिया।
केस दर्ज होते ही पति ने दिया पत्नी और पड़ोसी के संबंध का अनुबंध
जैसे ही कारोबारी के खिलाफ दहेज प्रताड़ना का केस दर्ज हुआ, उसने एमआइजी थाने की उपनिरीक्षक सीमा शर्मा के समक्ष एक अनुबंध पेश किया। उसने बताया कि पत्नी का चरित्र ठीक नहीं है। उसके पड़ोसी से संबंध थे। बेटी भी उसी से पैदा हुई है। इस अनुबंध में लिखा था कि पड़ोसी ने खुफिया कैमरे लगा कर अश्लील वीडियो बनाया और दुष्कर्म किया। बच्ची के भविष्य के मद्देनजर केस नहीं करवा रहे हैं। इसके बदले बच्ची के पालन-पोषण के लिए 11 लाख रुपये की एफडी करवा रहे हैं। इस अनुबंध के सामने आते ही पत्नी ने सारा सच खोलकर सामने रख दिया। उसने ऐसे दस्तावेज पेश किए, जिससे यह बात सामने आई कि उसके पति ने बच्ची की हत्या की धमकी देकर झूठा अनुबंध करवाया था। पड़ोसी ने रजामंदी से संबंध बनाए थे। महिला ने पड़ोसी के खिलाफ दुष्कर्म की रिपोर्ट दर्ज करवाने से भी इन्कार कर दिया।
20 लाख और कार मांगने पर थाने की चौखट तक पहुंचा विवाद
महिला ने थाने में रिपोर्ट लिखाई कि आरोपितों ने शादी में माता-पिता से 8 तोला सोना और 5 लाख रुपये नकद लिए हैं। रिश्तेदारों ने टीवी, फ्रिज, कूलर,बर्तन, टेबल, पलंग भी दिए थे लेकिन अब 20 लाख नगद व कार की मांग कर रहे हैं। पति शराब पीकर घर आता और मारपीट करता है। वह पड़ोसियों के पास रुपये लेने भेजता है और अनैतिक कार्य करने का दबाव बनाता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *